शुक्रवार, 20 फ़रवरी 2015

हम जीतेंगे बार बार यू पी फिर

पूरा है विश्वास
जवानों को विश्वास किसानो को विश्वास
सबको है विश्वास हमको है विश्वास
हम जीतेंगे बार बार यू पी फिर
हम जीतेंगे क्योकि अखिलेश बेदाग़ है
हम जीतेंगे क्योकि नेता का हाथ है
हम जीतेंगे बार बार यू पी फिर
हम जीतेंगे इतने मेट्रो के काम से
हम जीतेंगे अब हर खासो आम से
पुलो से सडको से मुफ्त सिचाई से
मुफ्त दवाई से और मुफ्त पढाई से
लैपटॉप फिर हमको टॉप कराएगा 
जवानों और बहनों का साथ हमें जितायेगा
बुजुर्गो का हम पर हाथ हमे जितायेगा
हम जीतेंगे बार बार यू पी फिर
बुजुर्गो को हमने तीरथ करवाया है
कैलाश की यात्रा में साथ निभाया है
बिजली घर हो या चीनी की मिल हो
बहुत दिनों में बस हमने ही बनाया है
इसीलिए जीतेंगे बार बार यू पी फिर
हमको है विश्वास सबको है विश्वास
हम जीतेंगे बार बार यू पी फिर
अखिलेश ने सबका विश्वास जीता है
नेता जी ने सबको प्रेम से सींचा है
नौजवान का दिल उन्होंने जीता है
हर किसान का दिल उन्होंने जीता है
व्यापारी हो या सरकारी नौकर हो
सबके साथ न्याय की रेखा खींचा है
इसलिए हम जीतेंगे बार बार
हमको है विश्वास सबको है विश्वास
हम जीतेंगे बार बार यू पी फिर ।
( अभी पार्टी के लिए लिखा एक गीत पुनः लिखूंगा )

रविवार, 15 फ़रवरी 2015

हाँ मैं खुली किताब हूँ

हाँ मैं खुली किताब हूँ
जिसके अक्षर
वक्त की बारिश ने धो दिए है ।
कैसे पढ़े कोई
हाँ तुम खुली किताब हो
पर उसकी लिपि  मुझे पढनी नहीं आती
तो हम पढ़े कैसे  किताबे खुली है और
हवा में फड़फड़ा रहे है
इसके पन्ने  उड़ जाने को आतुर
पर नियति के धागों ने
कस कर पकड़ रखा है
और खुली किताबे खुली होकर भी
अनबूझ और अपठनीय है
अपनी नियति और जिंदगी की तरह ।

अपने के नाम पत्र ---

अपने के नाम पत्र ---

आप खुश है न
आप जैसा छोड़ कर गए थे
अपने हो या घर हो या सपने
मैंने सम्हाल कर रखा है न
आप तो नहीं हो सकता था मैं
पर कोशिश तो किया सामर्थ्य भर
बड़ी जैसे बाकी दो की माँ हो गयी है
और छोटी ने घर को घर बना रखा है
बेटा हम सबका सहारा हो बन गया है
बेटियों की शादी होने वाली है
बस यही समाचार नया है
एक की तय हो गयी है
बहुत अच्छा बेटा और परिवार है
दूसरे की भी शायद जल्दी हो जाएगी
आप की दोनों बेटियाँ अपने घर जायेंगे
आप ने जो संस्कार दिए और व्यवहार
उससे ये अच्छा घर बनायेंगी
समाज को आप की ही तरह रास्ता दिखाएंगी
हां हां फिर आप का बेटा भी बहू लायेगा
पर आप की जगह तीनो को
रास्ता कौन दिखायेगा
आप ने कहा था न की अच्छी तरह रहिएगा 
तो मैं बहुत अच्छा हूँ और अच्छा ही रहूँगा
कोई तकलीफ होगी तो आप से कहूँगा
आप खुश है न
कुछ गलत तो नहीं हो रहा है न
जहा है वही से बच्चो को आशीर्वाद दीजिये
और रास्ता दिखाइएगा
हाँ जब शादी हो तो बच्चो पीछे बैठ जाइएगा
आप ने कहा था हर वक्त आसपास ही रहेंगी
पर ये नहीं पता की जो माँ समझाती है
वो आप बेटियों से कैसे कहेंगी
कन्यादान तो दोनों करते है न
मैं अकेले कैसे करूँगा
आप ने बताया ही नहीं
कि अपनी जगह कन्यादान को किसको कहूँगा
अच्छा आप आराम करिए सब हो जायेगा
आप का संबल रास्ता दिखायेगा
अब जिस दिन बेटियां विदा हो जाएँगी
तब अकेले में हम दोनों खूब बातें करेंगे
फोटो देख देख खुश होंगे और
कुछ ऐसा भी तो होगा जिस पर
पहले की तरह देर तक हँसेंगे
आप खुश हैं ना |
तो आज के लिए बस इतना ही |

आप खुश तो हाँ न
देखिये जो करने लॉयक था
उससे भी अच्छा किया मैंने
कहा से किया
आप जाने दीजिये न
बताइये आप खुश तो हैं न
कैसी है आप की बेटियां
सब अच्छा लग रहा है न
मैं अकेला !
वो तो ईश्वर ने तय कर दिया था
आप को बुला कर
और मुझे अकेला बना कर
अच्छा ज्यादा बात नहीं कर सकता
जुबान के साथ हाथ भी रुंध रहा है ।










शुक्रवार, 13 फ़रवरी 2015

मजबूत हो गर आप चाहे जो खरीद लो

मजबूत हो गर आप चाहे जो खरीद लो
कलम हो जुबान हो या फिर जमीर हो ।

अंदाज क्या है लोगो की आशिकी का
गुलों की बात करते गोली  मार देते हैं ।

इतने झूठ बोल कर अपना बनाये रखना
बाजीगरी है कैसी और क्या खूब हुनर है ।

ना मैं थकूंगा न मैं हरगिज झुकूँगा

ना मैं थकूंगा न मैं हरगिज झुकूँगा
खुशफहमी न पालो नहीं मैं रुकुंगा
न जाने कितने झंझावातो को देखा
कितनी कठिन दिन रातो को देखा
न पहले रुका न अब मैं रुकुंगा
न पहले थका न अब मैं थकूंगा ।
चोटी  पर चढ़ कौन बसता वहां है
समन्दर में जा कौन रुकता वहां है
मैं भी सैलानी हूँ मैं क्यों बसूँगा
मेरा भी सफ़र है मैं क्यों रुकूंगा
ये जीवन है जब तक चलते ही जाना
आसमा पर उड़ना जमी पर भी आना
अंतिम सफ़र आसमा पर बसूँगा
जमी घूम ली तो यहाँ क्यों रुकूंगा
इश्वर होने की ग़लतफ़हमी है तुमको
मैं इंसा हूँ  खुद पर भरोसा है मुझको
हैं मेरे पांव अपने मैं उनसे चलूँगा
न पहले रुक था न अब मैं रुकुंगा
कोई खुद को भगवान माने तो माने
अपनी सारी शक्ति मुझ पर ही ताने
ऐसी शक्ति से मैं न हरगिज डरूंगा
न पहले रुका था न अब मैं रुकुंगा ।